blog-image
26 February 2024

स्त्री नन्ही परी का सिर सहलाता हूँ वह मेरी हथेली अपनी उँगलियों में लपेट लेती है मुझे लगता, ईश्वर ने मेरा हाथ थामा है

blog-image
26 February 2024

21 अगस्त 1976 को मुंगेर (बिहार) में जन्मे यतीश कुमार ने पिछले कुछ वर्षों में कविता और कहानी के साथ-साथ चर्चित उपन्यासों, कहानियों व यात्रा-वृतान्तों पर अपनी विशिष्ट शै...

blog-image
26 February 2024

'चाँद गवाह' जीवन के अधूरेपन में प्रेम की परिपूर्णता खोजती हुई विपरीत धुरी पर घूमती स्त्री के मन के गहरे उद्वेलन की कथा है। वहाँ उस बवंडर में कुछ छपाक हुआ और वि...

blog-image
26 February 2024

दोहे और मुहावरों को अमरत्व प्राप्त है और अगर कहानियाँ इस ओर मुखर होकर अमरत्व चख लें तो मुहावरों में बदल जाते हैं। लेखनी का मुहावरों में बदलना कोई असाधारण घटना नहीं हो...

blog-image
26 February 2024

इस किताब को पढ़ते हुए मेरा मन एक बायस लिए है क्योंकि मुझे पुण्डरीक जी की वो कविताएँ बेहद पसंद है जो परिवार के इर्द गिर्द घूमती हैं । अब आगे देखा जाए मेरा पूर्वाग्रह टू...

Showing 6 records of total 61